Amazing Benefits of Drumstick

सहजन को Drumstick or Moringa के नाम से भी जाना जाता है। सहजन  में इतने गुण मौजूद हैं की इसे चमत्कार ही कहा जा सकता है। आयुर्वेद में लगभग 300 समस्याओं का इलाज सहजन को बताया गया है, मगर इसके गुणों से लोग अभी तक अनजान हैं।

सहजन भारत ,नेपाल, अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका में  पाया जाता है। सहजन के पेड़ का प्रत्येक भाग बहुत फायदेमंद होता है और इसका उपयोग भोजन के साथ-साथ बीमारियों के उपचार में भी किया जाता है। सहजन के बीज, फल, फूल, कलियां, पत्ते और जड़ सभी स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद हैं।

Miracle Tree


सहजन का पेड़ साल में कई बार  फूलों बार को सहन करता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन. कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन, मैग्नीशियम ,विटामिन A और विटामिन C पाया जाता है। सहजन का उपयोग विशेष रूप से कई रोगों के उपचार में किया जाता है। माना जाता है कि सहजन के कई फायदे हैं और इसके उपयोग से स्वास्थ्य और सौंदर्य से जुड़ी बीमारियों को रोकने और ठीक करने में मदद मिलती है।

 Must Read : Giloy के फायदे -Benefits Of Giloy 


सहजन खाने के फायदे - Benefits of Drumstick

Benefits of drumstick


1.  डायबिटीज को नियंत्रित 
सहजन  की पत्तियां और इसकी सब्जी के सेवन से ब्लड शुगर कंट्रोल रहता है इसलिए अपने आहार में शामिल करने से डायबिटीज से बचे रह सकते हैं। दरअसल सहजन में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर में इंसुलिन की मात्रा को बढ़ाने में मदद करते हैं । इसके अलावा सहजन शरीर की रोग प्रतिरोधक  क्षमता को बढ़ाते हैं। इनके सेवन से डायबिटीज की आशंका कम होती है

2. सर्दी-जुकाम से बचाव 
सहजन में विटामिन C की मात्रा भरपूर होती है। सहजन में संतरे से 7 गुना ज्यादा विटामिन C और गाजर से 4 गुना ज्यादा विटामिन A होता है । इसके सेवन से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है खासतौर पर  सर्दी-जुकाम जैसी मौसमी बीमारियों और संक्रमण से बचाव करता है। अगर सर्दी की वजह से नाक, कान बंद हो चुके हैं सहजन को पानी में उबालकर इसके पानी की भाप लें इससे आपके पूरे शरीर की जकड़न कम हो जाएगी।

3. गर्भावस्था की समस्याओं के लिए 
गर्भावस्था में  सहजन खाना बहुत फायदेमंद होता है। इसमे पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम, कैरोटीन,फास्फोरस और विटामिन C पाया जाता है। आप इसकी पत्तियों को पानी में उबालकर की प्रयोग ला सकती है। इसकी पत्तियों में  सभी गुण मौजूद होते हैं जो सहजन की फली में होती है। गर्भावस्था में  सहजन खाने से सुबह के समय में होने वाली कमजोरी दूर हो जाएगी और डिलीवरी हुई आसान रहेगी।

4. हड्डियों को मजबूत बनाती है
सहजन में कैल्शियम की मात्रा बहुत अधिक होती है।  इसके अलावा इसमें मैग्नीशियम,आयरन होता है इसलिए हड्डि रोगों के लिए बहुत फायदेमंद है।  इसके सेवन से हड्डियां मजबूत बनती है और हड्डियों के रोग, गठिया और जोड़ों के दर्द में भी राहत मिलती है।

5. इंफेक्शन से दूर रखेगा 
सहजन में मौजूद एंटी बैक्टीरियल गुण इनफेक्शन के खतरे को कम करती हैं। यह गला, त्वचा और छाती में होने वाले संक्रमण से बचाता हैं। गर्भावस्था में वायरस और बैक्टीरिया से प्रभावित होने की संभावना बनी रहती है ऐसे में मां और बच्चे दोनों को इन संक्रमण से खतरा रहता है। गर्भावस्था में सहजन का सेवन बहुत फायदेमंद होता है।

6. रक्त की सफाई
सहजन की पत्तियां Blood डिटॉक्सिफाई यानि  खून सफाई भी आसानी से करता है। सहजन की पत्तियों का रस पीने से रक्त शुद्ध होता है और शरीर में मौजूद हानिकारक पदार्थ बाहर निकल जाते हैं । यह पावरफुल एंटीबायोटिक एजेंट के रूप में कार्य करता है। इसे आप जूस और सूप  के तौर पर सेवन कर सकते हैं। इसका सेवन त्वचा संबंधी बीमारियों में भी लाभ देता है। 

7.  कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है  
सहजन के पत्ते में मौजूद एंजाइम कोलेस्ट्रॉल को प्रभावी ढंग से कम करता है । यह आपके पेट के अंदरूनी हिस्से में अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल कम करने में मदद करता है इसलिए दिल की बीमारियों में भी सहजन की पत्तियों का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। पेट के जलन को कम करने की क्षमता भी है

सहजन के फूलों का उपयोग 

 सहजन खाने के फायदे

सहजन के फूल हर्बल क्रीम बनाने के लिए किया जाता है जो सूजन को कम करता हैं और मांसपेशियों के दर्द को कम करते हैं। इसके अलावा, सहजन के फूलों से बनी चाय पीने से महिलाओं में यूटीआई की समस्या खत्म हो जाती है क्योंकि इसमें पोषक तत्व होते हैं। इसके अलावा, स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सहजन के  फूलों के सेवन से दूध में वृद्धि होती है।

Final Words
दोस्तों जब इतने सारे फायदे हैं तो आप सहजन का इस्तेमाल आज से ही शुरु कर दीजिए और अपने जीवन को निरोग बनाइए। आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई होगी तो  इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ।

Post a Comment

Previous Post Next Post